जो भी मेरी ज़िंदगी में ख़ास रहा है
यूँ समझो मुहब्बत का अहसास रहा है

—–सुरेश सांगवान’सरु’

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply