जहां तक हो सका हमने तुम्हें परदा कराया है
मगर ऐ आंसुओं! तुमने बहुत रुसवा कराया है

चमक यूं ही नहीं आती है खुद्दारी के चेहरे पर
अना को हमने दो दो वक्त का फाका कराया है

बड़ी मुद्दत पे खायी हैं खुशी से गालियाँ हमने
बड़ी मुद्दत पे उसने आज मुंह मीठा कराया है

बिछड़ना उसकी ख्वाहिश थी न मेरी आरजू लेकिन
जरा सी जिद ने इस आंगन का बंटवारा कराया है

कहीं परदेस की रंगीनियों में खो नहीं जाना
किसी ने घर से चलते वक्त ये वादा कराया है

खुदा महफूज रखे मेरे बच्चों को सियासत से
ये वो औरत है जिसने उम्र भर पेशा कराया है

अना = स्वाभिमान
महफूज = सलामत, सुरक्षित

  • मुनव्वर राना

Jaha tak ho saka humne tumhe parda karaya hai

Jaha tak ho saka humne tumhe parda karaya hai
Magar ae aansuo tumne bahut ruswa karaya

Chamak yu hi nahi aati hai khuddari ke chehre par
Ana ko humne do do waqt ka faaka karaya hai

Badi muddat pe khayi hai khusi se gaaliyan humne
Badi muddat pe usne aaj muh meetha karaya hai

Bichadna uski khwahish thi na meri aarjoo lekin
Jara si jid ne is aangan ka batwara karaya hai

Kahi pardesh ki ranginiyon me kho nahi jana
Kisi ne ghar se chalte waqt ye wada karaya hai

Khuda mahfooj rakhe mere bacchon ko siyasat se
Ye wo aurat hai jisne umar bhar pesha karaya hai

–  Munawwar Rana

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply