दो पाटों के अनुशासन में, मौजों की रवानी देखो,
कहीं लबालब,कहीं रिक्तता,पुलिनों की कहानी देखो।
सदियों के सुख-दुख की, इतिहास बताती हैं नदियाँ,
और कभी टूटा अनुशासन,सदियों तक वीरानी देखो।

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply