इस से पहले के बे-वफ़ा हो जाएं;
क्यों न ऐ दोस्त हम जुदा हो जाएं;

तु भी हीरे से बन जाए पत्थर;
हम भी कल जाने क्या से क्या हो जाएं;

इश्क़ भी खेल है नसीबों का;
ख़ाक हो जाएं कीमिया हो जाएं;

अबके गर तु मिले तो हम तुझसे;
ऐसे लिपटे कि तेरी क़बा हो जाएं;

बंदगी हमने छोड़ दी है ‘फ़राज़’;
क्या करें लोग जब खुदा हो जाएं।

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply