इंतजार अब भी है तुम्हारा
आज भी चाहत वही है।
माना कुछ गलतियां की है हमने
मगर हम इन्सान बुरे नहीं है।

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply