मैं दहशतगर्द था मरने पे बेटा बोल सकता है
हुकूमत के इशारे पे तो मुर्दा बोल सकता है

यहाँ पर नफ़रतों ने

कैसे कैसे गुल खिलाये हैं
लुटी अस्मत बता देगी दुपट्टा बोल सकता है

हुकूमत की तवज्जो चाहती है ये जली बस्ती
अदालत पूछना चाहे तो मलबा बोल सकता है

कई चेहरे अभी तक मुँहज़बानी याद हैं इसको
कहीं तुम पूछ मत लेना ये गूंगा बोल सकता है

बहुत सी कुर्सियाँ इस मुल्क में लाशों पे रखी हैं
ये वो सच है जिसे झूठे से झूठा बोल सकता है

सियासत की कसौटी पर परखिये मत वफ़ादारी
किसी दिन इंतक़ामन मेरा गुस्सा बोल सकता है

-मुनव्वर राना
————————————-
Main dahshatgard tha, marne pe beta bol sakta hai
Hukumat ke ishaare pe to murda bol sakta hai

Yahaan par nafraton ne kaise kaise gul khilaye hain
Luti asmat bataa degi, dupattaa bol sakta hai

Hukuumat ki tavajjo chahti hai, ye jali basti
Adaalat poochhna chaahe to malba bol sakta hai

Kai chehre abhi tak munh-zabani yaad hain isko
Kahiin tum pooch mat lena ye goonga bol sakta hai

Adaalat mein gawaahi ke liye laashen nahii aateen
Wo aankhen bujh chukee hain phir bhi chashma bol sakta hai

Bahut si kursiyan is mulk mein laashon pe rakhi hain
Ye vo sach hai jise jhoote se jhoota bol sakta hai

Siyaasat ki kasauti par parakhiye mat vafadari
Kisi din inteqaaman mera Gussa bol saktaa hai.

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply