होता है हर एक का ख़्याल अपना नज़र अपनी
दौर-ए-गुमनामी में रखिये सिर्फ़ ख़बर अपनी

–सुरेश सांगवान’सरु’

Facebook Comment

Internal Comment

2 comments on “होता है हर एक का ख़्याल

Leave a Reply