ऐ अन्ज़ान, क्या बँटवारा था हाथ की लकीरों का भी,
उसके हिस्से में जज की कलम और मेरे हिस्से में वस वही वकालत।

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply