“ग़म में हूँ या हूँ शाद मुझे खुद पता नहीं
खुद को भी हूँ मैं याद मुझे खुद पता नहीं
मैं तुझको चाहता हूँ मगर माँगता नहीं
मौला मेरी मुराद मुझे खुद पता नहीं…”(कुमार विश्वास)

“Gham Mein Hoon Ya Hoon Shaad Mujhe Khud Pata Nahin
Khud Ko Bhi Hoon Main Yaad Mujhe Khud Pata Nahin
Main Tujhko Chahta Hoon Magar Maangta Nahin
Maula Meri Muraad Mujhe Khud Pata Nahin…”(Dr. Kumar Vishwas)

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply