एक याद है तेरी जो सम्भाली नहीं जाती,
एक क़र्ज़ लिया जो अदा हो नहीं सकता…

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply