बहती धारा के साथ बहो किनारा छोड़ दो
रखो यकीं खुद पे दुनियाँ का सहारा छोड़ दो

—-सुरेश सांगवान’सरु’

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply