मेरे सूत्र उसी वक्त बेकार हो गये,
जब चापलूस ही उनके राज़दार हो गये।
मेरे तमाम रसूक तमाशाई रह गये,
काफिर उनके दोस्त अब खुद्दार हो गये।

Dost Ab Khuddar Ho Gaye

Dost Ab Khuddar Ho Gaye

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply