दिन गुज़र जाता है बेमुरव्वत राही की तरह
रात आती है फिर सवालों की भीड़ लिये…
आभा….

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply