ऐ अन्ज़ान,
गलती बस इतनी थी कि उसको निगाह उठा के इक बार देखा था,
और उसने मेरे सिर पर इल्ज़ाम दिल चोरी का लगा दिया।

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply