दर्द लाख सही बेदर्द ज़माने में
मगर जाता भी क्या है मुस्कुराने में

सुरेश सांगवान ‘सरु

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply