चांदनी बिखरा रहा है चाँद फिर भी
लोग हैं के कैद करने में लगे हैं

सुरेश सांगवान’सरू’

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply