मैने जब भी चाहा कि हाले दिल कहूं तुझसे
तू किसी और की बातों में ही उलझा मिला..
आभा….

ऐ अन्ज़ान,
तुम मेरी जिन्दगी की वो कमीं हो,
जो जिन्दगी भर रहोगे।

उन्होंने तो बेवफाई की हद ही पार दी दोस्तों
उनसे ज्यादा वफादार तो उनकी यादें निकली…

शाम होते ही तुम अपना गम भूलने की कोशिश करोगे,
और हम शाम के बाद तेरी यादों के जश्न से घिर जायेंगे…
आभा..

रुक गया वो वक़्त की निशानी बन के, बह गया एक दिन आँख का पानी बन के,
अजीब कशमकश बन गयी है जिंदगी, ऐ मौत तू ही मिल जा अब इश्क की निशानी बन के… Read more

वो क्या जाने प्यार की कीमत क्या होती है, जब नहीं मिलता प्यार तो आँखें कितनी रोटी हैं,
कभी ना कभी तो वो किसी से दिल लगाएगी, करेगा वो बेवफाई तो मेरी वफ़ा की याद आएगी..
Read more

तुम अपने ज़ुल्म की इन्तेहाँ कर दो,
फिर कोई हम सा बेजुबां मिले ना मिले…<3

अगर मुहब्बत की हद नहीं कोई,
तो फिर दर्द का हिसाब क्यों रखूँ…<3

बहुत तलाशी हमने वजह तेरे बाद खुश रहने की,
फिर भी न लौट कर आयी मुस्कराहट मेरे लबों पर…<3

मिटा दे उसकी तस्वीर मेरी आँखों से ऐ खुदा,
अब तो वो मुझे ख्वाबों में भी अच्छी नही लगती…