ऐ अन्ज़ान,
निगाहों में अभी तक दूसरा चेहरा नही आया,
भरोसा ही कुछ ऐसा था तुम्हारे लौट आने का।

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply