बे-खुदी बे-सबब नहीं ग़ालिब,
कुछ तो है जिस की पर्दादारी है…

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply