अरसा हुआ तेरी बांहो से छूटे हुये मगर
बंद पलकों में हर सांस महकती है..
आभा..

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply