आँखें मेरी भी गीली हो जाती है माँ
तू बहुत ज्यादा याद आती है माँ

चली थी तो खुश थी, डांट नहीं सुनूंगी अब 
प्यास मन की दो बोल को तरस जाती है माँ

कहती थी मैं इतना काम न किया कर
अब थकन से नींद नहीं आती है माँ

पास होती तो गोद में सर छुपा लेती
ऑंखें पानी को ख़ुद में समा लेती हैं माँ

शैतान लड़की जो खिझाया करती थी
बदल कर तुझ सी हो गयी है माँ
-आभा चन्द्रा….

Facebook Comment

Internal Comment

2 comments on “Bahut Yaad Aati Hai Maa…

Leave a Reply