ऐ अन्ज़ान,
कभी होंठों पर अगुंलिया, कभी गिरेंबां खींचना,
उसका अन्दाज-ए-हक़ जताना ही बड़ा जानलेवा है।

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply