ऐ अन्जान,
अब आदत सी हो गई है तुम्हारे करीब रहने कि,
इतना तो बता दो कि तुम्हारे सांसों कि खुशबू वाला परफ्यूम कहाँ मिलेगा।

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply