आह को चाहिए इक उम्र, असर होने तक
कौन जीता है तिरी जुल्फ के सर होने तक

दामे हर मौज में है, हल्क़:-ए-सदक़ाम निहंग
देखें क्या गुज़रे है क़तरे प’ गुहर होने तक

आशिक़ी सब्र तलब और तमन्ना बेताब
दिल का क्या रंग करूँ, ख़न-ए-जिगर होने तक

हमने माना, कि तग़ाफुल न करोगे, लेकिन
ख़ाक हो जाएँगे हम, तुमको ख़बर होने तक…

-मिर्जा ग़ालिब

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply