उनसे मत कहना, कि उन्हें याद किया है,
ऐ हवा उनसे मिलके आना जरुर।

मुझे जुल्फें संवारने का मौका दें ना दें, 
कहना हाथों में मेहदी लगाना जरूर।

इक गली, इक मोहल्ले और हौसले का फासला है,
कभी हमारी गली में भी आना जरूर।

रोज़ -रोज़ उनकी गली में ग़र जाउंगा मैं,
किसी को शक हुआ तो बताना जरूर।

कहने के बाद थोड़ा रुक भी जाना ‘अयुज’
ग़र कोई सौगात मिले तो लाना जरूर।

Facebook Comment

Internal Comment

Leave a Reply