हम दुअओ में तुम्हे मांगना नही चाहते
पर तुम्हे ही पाने की सोचते है 

न जाने , कब हम इतने बेखबर हो गये
तुम्हे पाने के लिए हम इतने बेसबर हो गये।

Facebook Comment

Internal Comment

One comment on “बेसबर

  • very nice..
    _____
    बहुत कर्ज हो गया है दर्द का मेरे सीने में आज,
    सोचता हूं मुहब्बत फिर से कर लूँ या दर्द वापस दे दूँ।

    Reply

Leave a Reply