ऐ अन्ज़ान,
जब से वकालत में आया हूँ, मेरी नींद भी अजीब हो गई है,
रात भर आती नही, और दिन भर जाती नही।

Facebook Comment

Internal Comment

One comment on “नींद भी अजीब हो गई है…

Leave a Reply