... ~aakaasshhh~ | Official Website | Best Shayari Collection

Welcome to ~aakaasshhh~ Home | Submit Your Shayari | Contact Us

  • ~aakaasshhh~ 10:27 am on July 26, 2014 View Comments | Reply
    Tags: , ,   

    साँसों का टूट जाना तो बहुत छोटी सी बात है दोस्तोँ,
    जब अपने याद करना छोड़ दें मौत तो उसे कहते हैं…♥

     
  • ~aakaasshhh~ 10:26 am on July 26, 2014 View Comments | Reply
    Tags: ,   

    सफर मोहब्बत का दुश्वार कितना है,
    मगर देखना है कोई वफादार कितना है,
    यही सोच कर कभी उसे नहीं माँगा हमने,
    उसे आजमाना है की वो मेरा तलबगार कितना है…

     
  • ~aakaasshhh~ 9:27 am on July 26, 2014 View Comments | Reply
    Tags: ,   

    अकेला वारिस हूँ उसकी तमाम नफरतों का,
    जो शख्स सारे शहर में प्यार बाटंता है…♥

     
  • ~aakaasshhh~ 9:15 am on July 26, 2014 View Comments | Reply
    Tags: ,   

    तेरे इस जहा में, मैं किसकी कीमत ज्यादा समझूँ ऐ खुदा,
    तू आसमान में मिट्टी से इंसान को बनता है और यहाँ इंसान मिट्टी से तुझे…♥

     
  • ~aakaasshhh~ 9:03 am on July 26, 2014 View Comments | Reply
    Tags: ,   

    एक पहलवान जैसा, हट्टा-कट्टा, लंबा-चौड़ा व्यक्ति सामान लेकर किसी स्टेशन पर उतरा।
    उसनेँ एक टैक्सी वाले से कहा कि मुझे साईँ बाबा के मंदिर जाना है।
    टैक्सी वाले नेँ कहा- 200 रुपये लगेँगे।
     
  • ~aakaasshhh~ 9:00 am on July 26, 2014 View Comments | Reply
    Tags: ,   

    जीवन में जब सब कुछ एक साथ और जल्दी – जल्दी करने की इच्छा होती है , सब कुछ तेजी से पा लेने की इच्छा होती है ,
    और हमें लगने लगता है कि दिन के चौबीस घंटे भी कम पड़ते हैं , उस समय ये बोध कथा , ” काँच की बरनी और दो कप चाय ” हमें याद आती है ।
    दर्शनशास्त्र के एक प्रोफ़ेसर कक्षा में आये और उन्होंने छात्रों से कहा कि वे आज जीवन का एक महत्वपूर्ण पाठ पढाने वाले हैं …

    (More …)

     
  • ~aakaasshhh~ 8:56 am on July 26, 2014 View Comments | Reply
    Tags: ,   

    एक युवक ने एक संत से कहा, ‘महाराज, मैं जीवन में सर्वोच्च शिखर पाना चाहता हूं
    लेकिन इसके लिए मैं निम्न स्तर से शुरुआत नहीं करना चाहता।
    क्या आप मुझे कोई ऐसा रास्ता बता सकते हैं जो मुझे सीधा सर्वोच्च शिखर पर पहुंचा दे।’

    संत बोले, ‘अवश्य बताऊंगा। पहले तुम (More …)

     
  • ~aakaasshhh~ 8:49 am on July 26, 2014 View Comments | Reply
    Tags: ,   

    बर्बाद कर दिया दोनों की लड़ाई ने मुझे,
    इश्क हार नहीं मानता और दिल बात नहीं मानता…

     
  • Sagar 8:30 am on July 26, 2014 View Comments | Reply
    Tags: , Zig Ziglar   

    “Your attitude is more important that your aptitude.”

    -Zig Ziglar

     
  • Sagar 8:29 am on July 26, 2014 View Comments | Reply
    Tags: , Robert Brault   

    “Enjoy the little things, for one day you may look back and realise they were the big things.”

    -Robert Brault

     
c
compose new post
j
next post/next comment
k
previous post/previous comment
r
reply
e
edit
o
show/hide comments
t
go to top
l
go to login
h
show/hide help
shift + esc
cancel